Vijay Singh Rathore

आचार्य विजय राठौर पिछले २५ सालों से ज्योतिष शास्त्र में रिसर्च कर रहे हैं , इन्होने अलग अलग फील्ड में ज्योतिष के माध्यम से नयी सम्भावनायें तलाश की है, इन्होने सैकड़ो वकील की कुंडली एवं सैकड़ो डॉकटर्स की कुंडली और विभिन क्षेत्रो में तमाम सफल वक्तियो की कुंडली पे शोध करने के पश्चात ये जान पाए कि कौन सा ग्रह किसको क्या बना रहा है, आईएएस या आईपीएस बनने के लिए किस ग्रह की सहायता ली जा सकती है। आपके रूचि के अनुसार,, आपके भविष्य का निर्माण किया जा सकता है। जी हा ! आचार्य विजय राठौर ने अपने शोध के माध्यम से ये सच कर दिखाया।

श्रीमान विजय सिंह राठौर जी का सम्बन्ध राजस्थान के जोधपुर से रहा है । इनका रुझान बचपन से ही हस्त रेखाओं और ज्योतिष शास्त्र में रहा । अपनी जिज्ञासाओं को शांत करने हेतु कालांतर में इन्होंने ज्योतिष शास्त्र के अध्ययन के लिए कई राज्यों का भ्रमण किया और लगभग इस विद्या से जुड़े हर शास्त्र का ज्ञान प्राप्त किया । अपने पच्चीस साल के कैरियर में इन्होंने लाखों व्याक्तियों की जन्मकुंडली देखीं और उनपे "शोध" भी किया । सफल लोगों की कुंडली और जिंदगी में असफल हुए लोगों की कुंडली का मिलान किया । डिफरेन्स चौकाने वाला था । विलक्षण प्रतिभा के धनी "राठौर" जी ने भारतीय ज्योतिष शास्त्र में नई सम्भावनाएं तलाश की और अपने लगन एवम परिश्रम से नये आयाम को जन्म दिया । इनके कथानानुसार.... "आज की तमाम जरूरतें, अपनी इच्छाएं आप पूरा कर सकते हैं ।" आपकी जन्मकुंडली में ही आपके सफलता का रहस्य छुपा है । प्रकृति ने आपको आपके अनुसार सब कुछ देकर धरती पे भेजा है । परंतु वो कौन सा ग्रह है जो हमारी जरूरतों को पूरा करने के लिए ही बना है ....ये जानने की आवश्यकता है । बहुधा, लोग अपनी किस्मत को दोष देते हैं उनके कथनानुसार 'जो किस्मत में लिखा है वही होगा तो ज्यादा परिश्रम से क्या लाभ ।' ये तो तय है कि बग़ैर परिश्रम के जीवन में आप सफल नही हो सकते हैं । कौन सा ऐसा व्याक्ति है जिसने मेहनत न की हो । आप कहेंगे कि उनकी किस्मत अच्छी थी इसिलए सफ़लता के शिखर तक पहुंचे । शोध से पता चला की उनका प्रधान ग्रह सही वक्त पे जागृत हो उनको टॉप पे पहुंचाया । "जुगाड़" से सफलता का लाभ आप "राहु " से लें, परिश्रम द्वारा सफलता का लाभ आप मंगल और शनि के माध्यम से लें । सूर्य से अपना और कुल का मान बढ़ा सकते हैं तो धन लाभ के लिए गुरु के पास दौड़ लगाएं वहीँ विलासिता एवम वैभव के लिए शुक्र बैठे है ।।
आइये !! भविष्य की इस दुनिया में आपका स्वागत है जहां आप अपनी किस्मत खुद लिखेंगे बगैर किसी चमत्कार के ।

आज की इस आधुनिक दुनिया में आगे बढ़ने की जबर्दस्त होड मची है, छोटे छोटे बच्चों को प्रोफ़ेशनली ट्रेंड करने का चलन शुरू हो गया है । कोई अपने बच्चे को गायक बनाना चाहता है , कोई नृतक बनाना चाहता है , कोई खिलाडी बनाना चाहता है... , मतलब पढ़ाई लिखाई से इतर "प्रोफेशनल करियर" एडॉप्ट करने का चलन सा बन गया है। जनम कुंडली के माध्यम से आप अपने बच्चे का भविष्य निर्माण बहुत आसानी से कर सकते है की किस करियर को अपना कर आपका बच्चा सफलता के चरम तक पहुंच सकता है। इसका मतलब सिर्फ सफल होने से काम नहीं चलेगा , सफलता के शीर्ष पर हर कोई पहुँचाना चाहता है "कुन्डलीवाला" आप के सपनों को पूरा करने का मार्ग दिखाने के लिए तैयार है। इसके लिए आप अपने बच्चे की कुंडली हमे दिखाए और हमारे सलाह के अनुसार चले।

images